[भू लेख] उत्तर प्रदेश भूलेख, खेत खसरा, खतौनी, जमीन नक्शा नकल ऑनलाइन

By | December 13, 2017

[भू लेख] उत्तर प्रदेश भूलेख, खेत खसरा, खतौनी, जमीन नक्शा नकल ऑनलाइन 2018 । उत्तर प्रदेश सरकार ने एक नई सरकारी ऑनलाइन योजना का आयोजन किया है । इस योजना के अंतर्गत आप घर बेठे अपनी जमीन से जुड़े हर प्रकार के दस्तावेज़ को घर बेठे देख सकते है । इस योजना का संचालन राजस्व विभाग का समय और आप का समय बचाने के लिए किया गया है । हम सब जानते है की सबके पास जमीन होती है परंतु कोई भी ज्यादा नई जानकारी के साथ जागरूक नहीं है । हम अपने आलसीपन के कारण ऑफिस और लाइनों मे खड़े नहीं होना चाहते ।  तो दोस्तो यह जानकारी उन सब लोगो के लिए है जो अपनी जमीन का रेकॉर्ड देखना तो चाहते है परंतु आलस के कारण घर से निकलते  नहीं है। तो आइये हम आपको बताते है की आप इस सेवा का लाभ कैसे उठा सकते है ।

उत्तर प्रदेश भूलेख

उप भूलेख : यह एक ऑनलाइन पोर्टल है जो की उत्तर प्रदेश सरकार ने जारी किया है । यह प्रदेश के राजस्व विभाग की और से जारी किया गया है । राजस्व विभाग ने अब अपना सारा डाटा ऑनलाइन कर दिया है ।  आप इसमे सिर्फ ईपीआई के प्रयोग से अपनी जमीन से जुड़ी हर प्रकार की जानकारी ले सकते है । इस सेवा का लाभ लेने के लिए आपको सिर्फ कम्प्युटर की थोड़ी बहुत जानकारी हो तो भी चलेगा । और हम आपको बताएँगे भी की आप कैसे स्टेप्स लेके अपनी जमीन का रेकॉर्ड देख सकते है ।  यह ऑनलाइन सेवा प्रदेश के हर तहसील मे जारी कर दी गई है ।

उत्तर प्रदेश भूलेख सेवाओ को जानकारी

इस ऑनलाइन पोर्टल के जरिये आप कई प्रकार की  जानकारी प्राप्त कर सकते है , जिनका विवरण नीचे दिया गया है :-

  • ऑनलाइन पर्चा /जमाबंदी देख सकते है ।
  • अक्स शाहजरा किश्तवार देख सकते हो ।
  • अप पिछले पाँच से दस साल का अपनी जमीन का रेकॉर्ड देख सकते हो ।
  • ऑनलाइन वेरीफीकेशन ।

यूपी भूलेख सेवा के लाभ :- इस योजना को शुरू करने के  बाद सरकार और पब्लिक दोनों को ही बहुत लाभ होंगे / जिनमे से थोड़े इस प्रकार से है :–

  1. इस योजना से आपके समय की बचत होगी ।
  2. अब आपको लंबी लाइन मे खड़ा नहीं होना पड़ेगा ।
  3. न ही आपको दफ्तरो के चक्कर लगाने पड़ेंगे ।
  4. और ना ही किसी प्रकार की औपचारिकता की जरूरत पड़ेगी ।
  5. एक क्लिक पर आप सारे रेकॉर्ड घर से ही देख पाएंगे ।

नियम ऑनलाइन उप भूलेख की जानकारी लेने के लिए/ [भू लेख] उत्तर प्रदेश भूलेख, खेत खसरा, खतौनी, जमीन नक्शा नकल ऑनलाइन :- तो हमारे द्वारा दी गई जानकारी का प्रयोग कर आप इस सेवा का लाभ ले सकते है :–

यूपी उत्तर प्रदेश भूलेख, खेत खसरा, खतौनी, जमीन नक्शा नकल ऑनलाइन कैसे प्राप्त करे… 

  1. सबसे पहले आप उत्तर प्रदेश के राजस्व विभाग के ऑनलाइन पोर्टल पे जाये upbhulekh.gov.in
  2. यहा से आप मेन वैबसाइट पे जा कर अपना ऑप्शन चुन सकते है।
उत्तर प्रदेश भूलेख

उत्तर प्रदेश भूलेख

3) वहा जा कर आप खाता की नकल देखने के लिंक पर क्लिक करे जोकि होगा “ खतौनी की नकल देखे”।

4) अब नीचे दिये गए कैप्चा कोड को भरे और फिर सबमिट कर दे ।

5) उसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुलेगा , यहा आपको पहले जिला , तहसील और गाँव का चयन करना होगा ।

6) उसके बाद नया फोरम खुलेगा जहा आपको जानकारी भरनी होगी जो वो पूछेंगे ।

7) भरने के बाद आपके सामने नया पर्चा खुले जाएगा ।

महत्वपूर्ण जानकारी :- यह पर्चा सिर्फ आप अपनी जानकारी के लिए ही प्रयोग कर सकते है । यह एक असत्यापित प्रति है । परंतु आप चाहे तो इसे सत्यापन करवा सकते  हैजैसे की :–

  1. आप किसी भी निकतम लोक मित्र केंद्र मे जा कर उनकी मोहर लगवा सकते है ।
  2. और आप किसी भी पटवारी/लेखपाल से भी सत्यापित करवा सकते है ।

जानकारी के लिए उत्तर प्रदेश राजस्व विभाग भूलेख खसरा, खतौनी की वैबसाइट या इस एड्रैस से संपर्क करे :-

सहायता कम्प्युटर सेल , राजस्व परिषद ,

लखनऊ , उत्तर प्रदेश

फोन नंबर :- 0522-2217155

Email id : borlko@nic.in

उत्तर प्रदेश जमीन नक्शा नकल

उत्तर प्रदेश सरकार अब भू लेख द्वारा अब आप के जमीन के नकल, और जमीन का नक्शा की नकल कॉपी दे रहा है। इस में आप अपनी जमीन का खसरा नंबर, खतौनी नंबर, मौज़ा, डाल कर आसानी से डौन्लोड कर पाएगे। इस में अगर आप को किसी भए प्रकार के जानकारी के जरूरत, है तो हमे नीचे दिये हुए कमेंट बॉक्स में लिखे।

अधिक जानकारी के लिए आप हमसे भी संपर्क कर सकते है । इस ऑनलाइन सर्विस के बारे मे अधिक जानने के लिए समय समय पर आते रहे । उत्तर प्रदेश भूलेख खसरा, खतौनी नंबर के जानकारी के लिया आप इस वैबसाइट से भू लेख के वैबसाइट पर जा कर अपना गाँव का नाम जिला का नाम, तहसील का नाम दाल कर डौन्लोड कर सकते है। अगर आप का कोई भी प्राशन हो इस जानकारी से जुड़ा हुआ, तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में हमे पूछ सकते है। धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *